Wednesday, 26 April 2017

मौसमी चटर्जी : 26 अप्रैल 1948





 Mausmi Chatterjee Did Rape Scene During Her Pregnancy
प्रेग्नेंसी में इस एक्ट्रेस ने किया था रेप सीन, शूटिंग के दौरान रोई, उल्टियां भी की
dainikbhaskar.com | Apr 19, 2017, 14:37 IST




मुंबई. एक्ट्रेस मौसमी चटर्जी 69 साल की होने जा रही हैं। 26 अप्रैल 1948 को कोलकाता में जन्मीं मौसमी ने कई फिल्मों में काम किया है। लेकिन 'रोटी कपड़ा और मकान' (1974) उनकी सबसे सक्सेसफुल फिल्म मानी जाती है। डायरेक्टर मनोज कुमार की इस फिल्म में मौसमी ने रेप सरवाइवर तुलसी का रोल किया था। फिल्म का रेप सीन हिंदी सिनेमा के सबसे डिस्टर्बिंग सीन्स में गिना जाता है। खास बात यह है कि मौसमी ने प्रेग्नेंसी की हालत में यह सीन किया था।रेप सीन के दौरान रो पड़ी थीं मौसमी...
- 2015 में एक इंटरव्यू में मौसमी ने 'रोटी कपड़ा और मकान' के रेप सीन की शूटिंग का किस्सा शेयर किया था।
- मौसमी ने कहा था, "इस सीन की खूब चर्चा रही थी। लोगों को यह सेंसिटिव लगा था। लेकिन इसकी शूटिंग बहुत मुश्किल थी। सीन में विलेन को मेरा ब्लाउज खींचते दिखाया गया है। मुझे चिंता थी कि यह सीन कैसे शूट होगा। सीन के लिए मैंने दो ब्लाउज पहने थे और विलेन ने ऊपर वाला ब्लाउज खींचा था।"
- इंटरव्यू में मौसमी ने बताया था कि जिस वक्त वे उस रेप सीन की शूटिंग कर रही थीं, उस वक्त उनके बाल बहुत लंबे थे। शूटिंग के दौरान उनके ऊपर ढेर सारा आटा गिर गया। वे पसीने से तर थीं और हर चीज उनसे चिपक जा रही थी। आटा भी उनके बालों में जा चिपका। अपनी हालत देखकर वे सेट पर रोने लगीं।
- मौसमी के मुताबिक, शूटिंग के बाद रात में 10.30 बजे वे घर पहुंचीं और बालों से आटा निकालते-निकालते उन्हें रात के 2 बज गए।
- मौसमी ने यह भी बताया था कि कुछ आटा उनके मुंह में चला गया था, जिसकी वजह से उन्हें खूब उल्टियां हुईं और उनकी हालत खराब हो गई। हालांकि, मौसमी की मानें तो डायरेक्टर मनोज कुमार ने उनकी खूब केयर की।
- मौसमी के मुताबिक, प्रेग्नेंसी की वजह से 'रोटी कपड़ा और मकान' का सॉन्ग 'तेरी दो टकिया की नौकरी' जीनत अमान को दे दिया गया था।
http://bollywood.bhaskar.com/news/ENT-BNE-this-actress-did-rape-scene-in-pregnancy-news-hindi-5578174-PHO.html



इंदिरा चटर्जी  का जन्म 26 अप्रैल  1953 में कोलकाता में हुआ था,  जिनका नाम मशहूर बंगाली फिल्म निर्देशक तरुण मजूमदार द्वारा बदलकर मौसमी चटर्जी कर दिया गया था. चौदह साल की उम्र में मौसमी चटर्जी बालिका वधू बन गईं.
खिलखिलाती सहेलियों के साथ स्कूल जाते हुए. मासूमियत भरी मस्ती और हंसने पर बढ़ा हुआ दांत दिखना, कंधे पर बस्ता टांगे हुए, लंबी- लंबी दो चोटियां उन्हें और भी मासूम बना देता था.
मशहूर बंगाली फिल्म निर्देशक तरुण मजूमदार नायिका के रोल के लिए उन्हें स्कूली लड़की की तलाश थी, जो देखने में मासूम लगे और चंचल भी. तरुण मजूमदार को लगा कि यह छात्रा उस रोल के लिए सही रहेगी. तरुण मजूमदार रोज मौसमी चटर्जी को देखते. उनकी निगाह में मौसमी चटर्जी की मासूमियत इस कदर बस गई कि उन्होंने सोच लिया कि मौसमी ही उनकी फिल्म में बालिका वधू बनेंगी.
उन्होंने जब इंदिरा से पूछा कि मेरी फिल्म में काम करोगी, तब बड़ी मासूमियत से उन्होंने ‘हां’ कह दिया, और पूछा कब से काम शुरू करना है? क्या आज से ही करना होगा? लेकिन मैं स्कूल से छुट्टी नहीं ले सकती. मुझे बाबा (पिताजी) से पूछना पड़ेगा.
सेना में नौकरी करने वाले सख्त स्वभाव वाले इंदिरा के पिता प्रांतोष चट्टोपाध्याय ने साफ मना कर दिया, ‘सवाल ही नहीं उठता. मेरी बेटी पढ़ेगी और खूब पढ़ेगी.’ तब तरुण मजूमदार ने बाबा को मनाने की जिम्मेदारी अपनी पत्नी संध्या राय को सौंपी जो उस समय बंगाल की लोकप्रिय कलाकार थीं. संध्या ने जैसे-तैसे बाबा को मना लिया और इस तरह चौदह साल की उम्र में इंदिरा बालिका वधू बन गई. लेकिन उन्हें अपना नाम बदलना पड़ा.
मौसमी का विवाह बहुत कम उम्र में हो गया था वे जितनी कम उम्र में परदे पर आई, उतनी ही कम उम्र में उनका विवाह भी हो गया. संयोग से प्रसिद्ध गायक हेमंत कुमार ने अपने बेटे रीतेश के लिए मौसमी का हाथ मांग लिया.शादी के बाद वे कोलकाता में रहने लगीं कोलकाता से मुंबई आने पर हेमंत कुमार ने मौसमी से कहा, ‘तुममें अच्छे कलाकार के सभी गुण मौजूद हैं. तुम्हारा चेहरा भी सिल्वर स्क्रीन के लिए एकदम सही है. तुम प्रतिभावान हो, फिल्मों में अभिनय जारी रखो. इस तराह उनके पति ने भी उन्हें हौसला दिया | उस समय तक कई जाने-माने निर्देशक पटकथा लेकर हेमंत कुमार के पास आते थे. तब उन्हें शक्ति सामंत की फिल्म ‘अनुराग’ की कहानी बहुत पसंद आई और 1972 में उन्होंने ‘अनुराग’ में काम करने के लिए शक्ति सामंत को हामी भर दी, लड़की की भूमिका इतने सशक्त ढंग से निभाई कि उस वर्ष की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का फिल्मफेयर पुरस्कार उन्हें दिया गया. इस फिल्म के सभी गाने खूब लोकप्रिय हुए थे. इस तरह यह सिलसिला चल निकला.
उसके बाद मौसमी ने कई प्रमुख फिल्मों में उस दौर के सभी बड़े अभिनेताओं के साथ काम किया. ‘रोटी, कपड़ा और मकान’, ‘उधार की जिंदगी’, ‘मंजिल’, ‘बेनाम’, ‘जहरीले इंसान’, ‘हमशक्ल’, ‘सबसे बड़ा रुपइया’ और ‘स्वयंवर’ उल्लेखनीय फिल्में हैं.
उनकी छोटी बेटी पायल भी कैमरे की बारीकियां समझने लगी हैं. हाल ही में मौसमी चटर्जी को बंगाल सिने आर्टिस्ट द्वारा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड प्रदान किया गया. मौसमी की बड़ी बेटी मेघा को भी उनकी ही तरह तरुण मजूमदार बंगाली फिल्म ‘भालोबासेर अनेक’ नाम से फिल्मी दुनिया में पदार्पण करवा चुके हैं. यह जानना दिलचस्प होगा कि इस फिल्म में मौसमी ने मेघा की चचेरी बहन की भूमिका अदा की है.

http://www.indiajunctionnews.com/biography-about-moushumi-chatterjee/

Thursday, 6 April 2017

सुचित्रा सेन : सौंदर्य और अभिनय की आंधी ------ swapniladminon



सुचित्रा सेन : सौंदर्य और अभिनय की आंधी

सुचित्रा सेन : सौंदर्य और अभिनय की आंधी

एक-दो या दस-बीस नहीं पूरे तैंतीस साल से ज्यादा हो गए हैं तब से फिल्म तारिका सुचित्रा सेन ने अपने आपको कोलकाता के बेलीगंज सरकुलर रोड के चार अपार्टमेंट्स में से एक में नजरबंद कर रखा है। सिर्फ सूरज की धूप और हवाओं के स्पर्श जानते हैं कि सुचित्रा की दिनचर्या क्या और कैसी है।  
As Per : 

इन सालों में सिर्फ दो बार सुचित्रा को सार्वजनिक रूप से घर से बाहर देखा गया। पहली दफा 24 जुलाई 1980 को जब बांग्ला फिल्मों के महानायक उत्तम कुमार का निधन हुआ। अपनी कार से उतरकर वे सीधे उत्तम कुमार के शव के नजदीक आकर मौन खड़ी हो जाती हैं। फूलों की एक माला शव पर समर्पित कर चुपचाप कार में बैठ वापस आ जाती हैं।
दूसरी बार कलकत्ता में 1982 में चल रहे फिल्मोत्सव के दौरान एक फिल्म देखने आई थीं, तब दर्शकों-प्रशंसकों ने परिचित सनग्लास पहने सुचित्रा की झलक भर देखी थी। इन्हीं वजहों से सुचित्रा की तुलना हॉलीवुड की तीस-चालीस के दशक की सर्वाधिक लोकप्रिय तारिका रही ग्रेटा गार्बो से की जाती है।ग्रेटा ने फिल्मों से संन्यास लेने के बाद न्यूयॉर्क के एक मल्टीस्टोरी बिल्डिंग का एक पूरा माला खरीद लिया था। एक फ्लैट में वे रहती थीं। शेष में उन्होंने ताले लगवाकर बंद कर दिए थे। उनके माले पर लिफ्ट नहीं ठहरती थी क्योंकि उन्होंने अपनी मंजिल का बटन भी बंद करा दिया था। पैंतीस वर्ष तक ग्रेटा गार्बो ने ग्लैमर से दूर गुमनामी के अंधेरे की जिंदगी अकेले बिताई।1978 में फिल्मों से संन्यास लेकर सुचित्रा भी ऐसा ही जीवन जी रही हैं। कुछ वर्ष पहले दादा साहेब फालके अवॉर्ड के लिए उनसे सम्पर्क किया गया था। सुचित्रा ने प्रस्ताव यह कहकर ठुकरा दिया था कि वे अवॉर्ड लेने घर से बाहर नहीं निकलेंगी। भारतीय सिनेमा के इतिहास में सुचित्रा सेन एक नाम न रहकर अब एक घटना बन गया है।
हर एंगल से ब्यूटीफुल
सुचित्रा सेन की निजी धरोहर उनका सौन्दर्य रहा है। ऐसा फोटोजनिक फेस कम देखने को मिलता है। कैमरे के किसी भी कोण से सुचित्रा को निहारा जाए तो उनकी सुंदरता बढ़ते चन्द्रमा की तरह और अधिक सुंदर होती जाएगी। इसीलिए सुचित्रा की अधिकांश फिल्मों में सिनेमाटोग्राफर्स ने उनके चेहरे के क्लोज-अप्स का ज्यादा इस्तेमाल किया है। उनका क्लोज-अप में चेहरा देखना एक सम्मोहक शक्ति के वश में हो जाने जैसा है।
अपनी सुंदरता के जरिये सुचित्रा ने बंगला फिल्मों को बेहद रोमांटिक बनाया और अपने प्रिय नायक उत्तम कुमार के साथ उन्होंने बीस बरसों तक दर्शकों को रोमांस की रोशनी से लगातार नहलाया। फिल्मों में दो कलाकारों की जोड़ी बनने का सीधा मतलब होता है कि रील-लाइफ का रोमांस रियल-लाइफ में भी पंख पसारने लगता है, लेकिन इकतीस फिल्मों में उत्तम कुमार के साथ लगातार काम करने, सफलता पाने और लोकप्रियता बटोरने के बावजूद उत्तम-सुचित्रा को लेकर प्रिंट मीडिया में कभी कोई गॉसिप या स्कैंडल नहीं छपे।दोनों कलाकारों ने पत्नी या प्रेमिका के किरदारों को परदे तक ही सीमित रखा। इसके दो कारण और भी हैं। पहला यह कि सुचित्रा निजी जीवन में हमेशा से अंतरमुखी रही हैं। प्रेस से एक दूरी बनाए रखी। फिजूल की पार्टियों में जाना और हर किसी से मिलना-जुलना उन्हें नापसंद था। दूसरे, उत्तम कुमार का आत्मीय रिश्ता सुप्रिया देवी से इतना गहरा था कि दूसरी स्त्री के बारे में उत्तम कुमार ने सोचा तक नहीं।
सात फिल्में हिंदी में
हिन्दी सिनेमा के दर्शकों के लिए सुचित्रा की पहचान सिर्फ सात फिल्मों से हैं। सबसे पहले बिमल राय की फिल्म देवदास (1955) में उन्होंने पार्वती (पारो) का रोल किया और फिल्म को यादगार बनाया। बिमल राय पहले इस रोल के लिए मीना कुमारी को लेना चाहते थे। लगातार शूटिंग डेट्स न दे पाने के कारण बिमल दा की दूसरी पसंद मधुबाला थी, लेकिन नया दौर फिल्म के दौरान उपजे विवाद की वजह से दिलीप साहब और मधुबाला में अनबन चल रही थी। इसलिए सुचित्रा सेन को पारो का किरदार मिला। दिलीप कुमार ने सुचित्रा सेन की प्रशंसा करते एक बार कहा था कि उन्होंने पहली बार किसी एक महिला में अद्भुत सौन्दर्य और बुद्धि दोनों को एक साथ महसूस किया है। सुचित्रा की हिन्दी में दूसरी फिल्म ऋषिकेश मुखर्जी के निर्देशन में बनी मुसाफिर (1957) है। इसमें दिलीप कुमार से भी सीनियर हीरो शेखर, सुचित्रा के नायक बने। इसके बाद चम्पाकली (1957) फिल्म में भारत भूषण के साथ सुचित्रा ने काम किया। ये दोनों कमजोर फिल्में साबित हुईं।
देव आनंद के साथ सुचित्रा की दो फिल्में हैं- बम्बई का बाबू और सरहद (1960)। लेकिन देव आनंद ने सुचित्रा के अभिनय की तारीफ फिल्म आँधी के लिए की है। दरअसल देखा जाए, तो सुचित्रा सेन की अभिनय क्षमता, बॉडी लैंग्वेज और मैनेरिज्म का सही उपयोग गुलजार साहब ने फिल्म आँधी में काम किया है। संजीव कुमार के साथ उनकी जोड़ी लाजवाब रही और हिन्दी दर्शकों के एक बड़े समूह ने पहली बार सुचित्रा के सौन्दर्य और अभिनय प्रतिभा को नजदीक से देखा, जाना और समझा।
आँधी और सरहद के बीच फिल्मकार असित सेन की हिन्दी फिल्म ममता (1966) में सुचित्रा ने माँ और बेटी के दोहरे किरदार को निभाया है। अशोक कुमार के साथ धर्मेन्द्र ने प्रेमी का रोल इस फिल्म में निभाया था। आँधी फिल्म 1975 में रिलीज होते ही इमरजेंसी की शिकार हो गई। उसकी नायिका आरती (सुचित्रा सेन) के किरदार को सीधे प्रधानमंत्री इन्दिरा गाँधी के जीवन से जोड़ा गया। फिल्म पर प्रतिबंध लगा और इमरजेंसी हटने के बाद जब आँधी रिलीज हुई, तो उसे हर वर्ग के दर्शकों का भरपूर समर्थन मिला। आँधी के ठीक बाद सुचित्रा ने सिर्फ दो बंगला फिल्मों में अभिनय किया और अपनी लोकप्रियता के शिखर पर रहते हुए संन्यास की घोषणा से सबको चौंका दिया। प्रणय पाश (1978) उनकी आखिरी बांग्ला फिल्म है, जिसमें सौमित्र चटर्जी उनके नायक रहे हैं।
आँधी फिल्म की कहानी को लेकर गुलजार ने एक नया राज उजागर किया है। सुचित्रा सेन और संजीव कुमार को लेकर एक फिल्म बनाने के प्रस्ताव जे.ओमप्रकाश ने गुलजार के सामने रखा था। पटकथा सचिन भौमिक ने लिखी थी। गुलजार को वह कहानी पसंद नहीं आई। गुलजार ने स्वयं एक कहानी लिखना शुरू किया, जिसमें एक महिला राजनेता और एक होटल मालिक के रिश्तों का तानाबाना बुना गया था। इस दौरान इससे मिलते-जुलते कथानक पर कमलेश्वर ने भी एक कहानी लिखी थी। वे दक्षिण भारत के निर्माता ढोंढी को बेचना चाहते थे। ढोंढी ने कहानी सुनकर मना कर दिया। कमलेश्वर को गुलजार की लिखी कहानी बेहतर लगी। आँधी की पटकथा लिखे जाने के बाद कमलेश्वर ने काली आँधी नाम से उपन्यास लिखा था। गुलजार को इसकी जानकारी हुई, तो उन्होंने कमलेश्वर को ऑफर दिया कि वे अपनी कहानी के साथ हमारी टीम में शामिल हो जाएँ। इस तरह फिल्म आँधी कमलेश्वर-गुलजार-सचिन भौमिक की टीम का नतीजा है। सुचित्रा की हिन्दी के उच्चारण ठीक नहीं थे। यूनिट के सदस्यों ने गुलजार से संवाद डब करने की बात कही। गुलजार ने कहा कि सुचित्रा सेन जो हैं और जैसे उनके उच्चारण हैं, उसके साथ छेड़छाड़ करना एक महान अभिनेत्री के साथ नाइंसाफी होगी।
रोमा बनी सुचित्रा
सुचित्रा सेन का जन्म 6 अप्रैल 1931 अथवा 1934 में पाबना (अब बंगला देश) गाँव के मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। तीन भाई और पाँच बहनों में सुचित्रा का क्रम पाँचवाँ है। पिता करुणामय दासगुप्ता और माँ का नाम इन्दिरा था। बचपन में घर का नाम कृष्णा था। पिता जब हाई स्कूल में भर्ती करने गए तो नाम लिखवाया रोमा। और जब पहली बार स्क्रीन टेस्ट हुआ तो नितीश राय नामक सहायक निर्देशक ने नया नाम दिया- सुचित्रा। 1947 में कलकत्ता के बार-एट-लॉ आदिनाथ सेन के बेटे दिबानाथ सेन के साथ रोमा यानी सुचित्रा की शादी कर दी गई। शादी में दहेज नहीं माँगा गया था, यह उस समय की अनहोनी घटना थी। पति दिबानाथ ने ही सुचित्रा को फिल्मों में काम करने के लिए प्रोत्साहित किया। सुचित्रा ने पहली फिल्म शेष कोथाई (1952) में काम किया था, मगर आज तक यह फिल्म रिलीज नहीं हो पाई। दूसरी फिल्म सात नम्बर कैदी में समर राय के साथ दिखाई दी। तीसरी फिल्म साढ़े चौहत्तर से उत्तम कुमार का साथ मिला, जो बीस साल तक चला।
पति दिबानाथ से पटरी नहीं बैठ पाने के कारण वह अमेरिका चले गए और 1969 में एक दुर्घटना में उनकी असामयिक मौत हो गई। इसके बाद सुचित्रा ने कभी शादी का नहीं सोचा। बेटी मुनमुन की परवरिश कर उसे अभिनेत्री बनाया। आज उनकी दो ग्रेंड डाटर रिया और राइमा सेन फिल्म अभिनेत्री हैं। एक लीजैंड जैसी ऊँचाई हासिल करने के बाद सुचित्रा सेन ने अपने को एक आवरण में कैद कर लिया है। इस रहस्यमय जीवन का रहस्य क्या है, आने वाल समय इसकी परतें उजागर करेगा।

Friday, 31 March 2017

मीनाकुमारी फिल्म के हिट होने का जश्न न मना सकीं ------ Er S D Ojha


Er S D Ojha
22-3-2017 


जो कही गयी न मुझसे , वो जमाना कह रहा है .
पाकीजा कालजयी फिल्म बन गयी . इसके गीत संगीत ने इसे कल्ट क्लासिक बना डाला .पाकीजा में मीनाकुमारी एक तवायफ बनी हैं .राजकुमार इस फिल्म के नायक हैं. दोनों में प्यार होता है . दोनों भाग कर शादी करने जाते हैं . वे जहां भी जाते हैं , लोग नर्गिस तवायफ को पहचान लेते हैं . नर्गिस का नाम पाकीजा रखने पर भी उसका अतीत उसका पीछा नहीं छोड़ता . थक हार कर नर्गिस नायक के जीवन से चले जाने का फैसला करती है .ऐसी मार्मिक फिल्म के बनने में कई तरह के किंतु परंतु लगे .इस फिल्म पर यह शेर पूरी तरह से लागू होता है .
तेरी मंजिल पर पहुंचना इतना आसां न था .
सरहद -ए -अक्ल से गुजरे तो यहां तक पहुंचे .
पाकीजा फिल्म का मुहुर्त 17 जनवरी 1957 को हुआ और यह रिलीज हुई 4 फरवरी 1972 को . अर्थात् कुल 15 साल का विचारणीय समय लगा, जबकि आम तौर पर एक फिल्म पूरा होने में एक या डेढ़ साल का हीं समय लगता है . इस प्रोजेक्ट से जुड़े कई लोगों की मौत हो गयी तो कई लोग इसे छोड़कर चले गये . पहले फिल्म ब्लैक एण्ड ह्वाईट शूट होनी शुरू हुई . जब कलर का दौर आया तो कलर शूट हुई . तभी सिनेमा स्कोप का जमाना आया तो कलर शूट हुए हिस्से रद्दी के टोकरी में फेंकने पड़े .फिल्म ने गति पकड़ी तो फिल्म के हीरो धर्मेंद्र को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया .धर्मेंद्र की जगह राजकुमार लाये गये.धर्मेन्द्र वाले हिस्से पुन: राजकुमार पर शूट किये गये.
फिल्म के निर्माता निर्देशक कमाल अमरोही थे , जो कि शत प्रतिशत विशुद्धता के लिए मशहूर थे . कमाल साहब की कड़ी नजर हर शूट पर थी .उनकी पत्नी मीनाकुमारी ने खुद कास्ट्यूम डिजाइन का जिम्मा ले रखा था . फिल्म की शूटिंग चलते चलते रूक गयी . कैमरे के लेंस का सेंटर फोकस खराब हो गया था . उस समय इस कैमरे के लेंस का किराया पचास हजार रुपये प्रतिदिन था . कम्पनी वाले आए . लेंस बदला . फिर से उन दृश्यों की शूटिंग हुई जो खराब लेंस से हुई थी . फिल्म बनने के शुरू के दौर से हीं कमाल अमरोही व मीना कुमारी के सम्बंध तल्ख होने लगे थे . सन् 1964 आते आते कमाल साहब ने मीनाकुमारी को तालाक दे दिया . तालाक के बाद मीना कुमारी ने लिखा था -
तालाक तो दे रहे हो नजर-ए-कहर के साथ.
जवानी भी मेरा लौटा दो , मेरे मेहर के साथ .
तालाक की वजह से फिल्म बननी बंद हो गयी . सात साल का लम्बा समय व्यतीत हो चला था . इस फिल्म के कुछ फुटेज नर्गिस व सुनील दत्त ने देखे . उन्हें इतनी अच्छी फिल्म का बनना बंद होना बहुत खला . दोनों ने कमाल अमरोही व मीनाकुमारी से बात की . उन्हें फिल्म बनाने के लिए पुन: राजी किया . फिल्म बनी और कालजयी बनी. फिल्म जुबली हिट हुई , पर मीनाकुमारी फिल्म के हिट होने का जश्न न मना सकीं. उनका 31 मार्च 1972 को इंतकाल हो गया .
यूं तेरी रहगुजर से ,
दीवानावार गुजरे .
कांधे पे अपने रख के ,
अपना मजार गुजरे .

https://www.facebook.com/photo.php?fbid=1803704329955445&set=a.1680408095618403.1073741830.100009476861661&type=3


Wednesday, 29 March 2017

भुवन शोम एक प्रेरणास्पद हास्य फिल्म

 जन्मदिन Utpal Dutt (Bangla: উত্পল দত্ত ) March 29, 1929 : 



 
साभार : 
Er S D Ojha .
https://www.facebook.com/sd.ojha.3/posts/1808246549501223

भुवन   शोम फिल्म के माध्यम से निर्देशक ने हास्य नाटकीयता के द्वारा यह सिद्ध किया है कि, एक सिद्धांतनिष्ठ कडक प्रशासनिक अधिकारी को भी नारी सुलभ ममता द्वारा व्यावहारिक धरातल पर नर्म मानवीय व्यवहार बरतने हेतु परिवर्तित किया जा सकता है। रेलवे के प्रशासनिक अधिकारी भुवन शोम के रूप में उत्पल दत्त जी व ग्रामीण नारी गौरी के रूप में सुहासिनी मुले जी ने मार्मिक अभिनय किया है। प्रारम्भिक अभिनेत्री होते हुये भी परिपक्व अभिनेता उत्पल दत्त जी के साथ सुहासिनी मुले जी का अभिनय सराहनीय है।  यह गौरी का ही चरित्र था जिसने उसके पति जाधव पटेल का निलंबन रद्द करने को भुवन शोम जी को प्रेरित कर दिया। 
  

UTPAL DUTT BIO




Utpal Dutt (Bangla: উত্পল দত্ত) (March 29, 1929 – August 19, 1993) was an Indian actor, director and writer. He was primarily an actor in Bengali Theatre, but he also acted in many Bengali and Hindi films. He received National Film Award for Best Actor in 1970 and three Filmfare Best Comedian Awards 
वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के भुवन शोम के लिए राष्ट्रीय फिल्म ..








Thursday, 23 March 2017

कंगना रनोट 23 march 1987 ------ इंडिया संवाद


16 January 05:34 2016

इंडिया संवाद ब्यूरो

नई दिल्ली: बॉलीवुड की ‘क्वीन’ मानी जाने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत के ताजे खुलासे ने एक बार फिर से यह चर्चा छेड़ दी है कि इस चमक-दमक भरी दुनिया में अपनी पहचान बनाने के लिए अभिनेत्रियों को बहुत महंगी कीमत चुकानी पड़ती है। बाॅलीवुड में काम करने के लिए अभिनेत्रियों को शारीरिक शोषण का शिकार होना ही पड़ता है।
एक पुस्तक की लांचिग के मौके पर पहुंचीं कंगना ने ताजा खुलासे में कहा है कि संघर्ष के शुरुआती दिनों में उन्हें तरह-तरह की यातनाएं दी गईं। तब उनकी उम्र महज 17 साल थी।
तब बॉलीवुड में वह नई थीं
‘क्वीन’ और ‘तनु वेड्स मनु’ जैसी सुपरहिट फिल्में देने वाली कंगना रनौत ने बॉलीवुड में अपने संघर्ष के दिनों को लेकर कई चैंकाने वाले खुलासे किए। उनके मुताबिक, तब बॉलीवुड में वह नई थीं। कंगना ने बताया, "एक शख्स, जो मेरे पिता की उम्र का था, ने मुझ पर जोर से वार किया और मैं सिर के बल फर्श पर जा गिरी। खून बहना शुरू हो गया। यह सब देखकर किसी तरह से मैंने अपनी सेंडल उठाई और उसके सिर पर जोर से मारा और उसका खून बहना शुरू हो गया।"
कम उम्र में ही सफलता की बुलंदियां छूने वाली कंगना ने बताया, "मेरे लिए वह बहुत मुश्किल और खराब समय था। वह मेरे करियर का शुरुआती दौर था, जब मेरा शारीरिक शोषण हुआ। यहां मैं इस घटना के विस्तार में नहीं जाना चाहूंगी।"
यहां कोई फ्री में लॉन्च नहीं किया जाता
जब कंगना से पूछा गया कि क्या वह शख्स फिल्म इंडस्ट्री से ही है तो उन्होंने बताया, ‘तब मैंने खुद को फंसा हुआ महसूस किया। आप सोचते हैं कि लोग आपकी मदद करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन ऐसा होता नहीं है। यहां कोई फ्री में लॉन्च नहीं किया जाता। जब आप इसमें जाते हैं, तो गिर जाते हैं।’ उनके मुताबिक शोषण करने वाला उनके पिता की उम्र का था, जिसे वे अपना मैंटर मानती थीं। हालांकि कंगना ने उस शख्स के नाम का खुलासा नहीं किया।

गौरतलब है कि करियर के शुरुआती दौर में कंगना का नाम आदित्य पंचोली के साथ चर्चा में रहा था। कई सालों तक दोनों की दोस्ती और प्यार की तस्वीरें मीडियां में छाई रही थीं। ऐसे में उनके ताजा खुलासे को उन दिनों से जोड़कर देखने की कोशिश की जा रही है।
अपने जीवन के संघर्ष पर किताब लिखना चाहती हैं
खुद कंगना भी अपने जीवन के संघर्ष पर किताब लिखना चाहती हैं, जिसमें उनके फिल्मी करियर से पहले और बाद की जद्दोजहद शामिल होगी। उन्होंने कहा, “जिस तरह से मैं अपनी असफलताओं से जूझी हूं, वह काफी गंभीर है और मैं इस बारे में किताब लिखना चाहती हूं।” उम्मीद की जा रही है कि कंगना की पुस्तक में इस बारे में भी खुलासा होगा।


*****


First Published:23-03-2017 09:51:48 AMLast Updated:23-03-2017 10:57:32 AM

http://www.livehindustan.com/news/entertainment/article1-kangana-ranaut-birthday-special-her-unkwon-facts-including-she-signed-an-adult-film-750075.html

बॉलीवुड 'क्वीन' का ताज हासिल कर चुकीं कंगना रनौत को चुन-चुन कर फिल्में साइन करने की महारथ हासिल है। कंगना इस 30 साल की हो गई हैं, जन्मदिन के खास मौके पर पढ़ें उनके करियर के उतार-चढ़ाव की दास्तां। 'क्वीन' बनने से पहले कंगना के करियर में ऐसा दौर भी आया था जब उन्होंने एडल्ट फिल्म में काम करने के लिए हामी भर दी थी। 

आज अपनी एक्टिंग से लोगों का दिल और नेशनल अवॉर्ड जीतने वाली कंगना ने एक इंटरव्यू में बताया था कि फिल्म साइन करने के बाद उनका एक फोटो शूट किया गया जिसमें उन्हें पहनने के लिए एक कपड़ा दिया गया। उस समय उन्हें कुछ ठीक नहीं लगा क्योंकि माहौल ब्लू फिल्म की शूटिंग जैसा था। *******************